Pages

Subscribe:

Ads 468x60px

test ad

रंग बदलने में मोटू जी, गिरगिटान के भाई।

 
गिरगिटान के भाई।
-कृष्‍णेश्‍वर डींगर 

कभी पहनते कुर्ता टोपी, 
कभी सूट नेक टाई। 
रंग बदलने में मोटू जी, 
गिरगिटान के भाई। 
कभी हमारी टीम पकड़ कर, 
बैट्स मैन बन जाते। 
कभी हमारे ही विरोध में, 
बॉलर बन कर आते। 
कोई उनको कहता मोटू, 
कोई कहता बबलू। 
कोई उनको कहता गोलू, 
मैं कहता दल-बदलू।

7 टिप्पणियाँ:

amrendra "amar" said...

Waah Bahut khubsurat vyangya......dal badlu per....sunder rachna..........

Akshitaa (Pakhi) said...

बहुत सुन्दर कविता..मजेदार..बधाई !!



________
'पाखी की दुनिया' में देखिएगा मिल्की टूथ की बातें..

इस्मत ज़ैदी said...

bahut mazedaar rachna !!!!

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर कविता| धन्यवाद।

कुश्वंश said...

सुन्दर कविता

Pavitra_Hyd said...

rochak kavita.

"रुनझुन" said...

मज़ेदार कविता!!!

इस माह सर्वाधिक पढ़ी गयी कविताएँ